Tuesday, July 11, 2017

CBSE PORTAL : CBSE Class-12 Exam 2017 : All India Scheme Question Paper, Physical Education

CBSE PORTAL : CBSE Class-12 Exam 2017 : All India Scheme Question Paper, Physical Education

Link to CBSE PORTAL : CBSE, ICSE, NIOS, JEE-MAIN, AIPMT Students Community

CBSE Class-12 Exam 2017 : All India Scheme Question Paper, Physical Education

Posted: 10 Jul 2017 07:15 AM PDT

Class 12 papers

CBSE Class-10 Exam 2017 : All India Scheme

Question Paper, Physical Education

CBSE Class-10 Exam 2017 :  Physical Education 

कृपया जाँच कर लें कि इस प्रश्न-पत्र में मुद्रित पृष्ठ ५ हैं ।
  • प्रश्न-पत्र में दाहिने हाथ की ओर दिए गए कोड नम्बर को छात्र उत्तर-पुस्तिका के मुख-पृष्ठ पर लिखें ।
  • कृपया जाँच कर लें कि इस प्रश्न-पत्र में २६ प्रश्न हैं ।
  • कृपया प्रश्न का उत्तर लिखना शुरू करने से पहले, प्रश्न का क्रमांक अवश्य लिखें ।
  •  इस प्रश्न-पत्र को प‹ढने के लिए १५ मिनट का समय दिया गया है । प्रश्न-पत्र का वितरण पूर्वाङ्घ में १०.१५ बजे किया जाएगा । १०.१५ बजे से १०.३० बजे तक छात्र केवल प्रश्न-पत्र को प‹ढेंगे और इस अवधि के दौरान वे उत्तर-पुस्तिका पर कोई उत्तर नहीं लिखेंगे ।
  • Please check that this question paper contains 5 printed pages.
  • Code number given on the right hand side of the question paper should be written on the title page of the answer-book by the candidate.
  • Please check that this question paper contains 26 questions.
  • Please write down the Serial Number of the question before attempting it.
  • 15 minute time has been allotted to read this question paper. The question paper will be distributed at 10.15 a.m. From 10.15 a.m. to 10.30 a.m., the students will read the question paper only and will not write any answer on the answer-book during this period.
शारीरिक शिक्षा (सैद्धान्तिक)
PHYSICAL EDUCATION (Theory)
 
निर्धारित समय : ३ घण्टे , अधिकतम अंक : ७०
Time allowed : 3 hours, Maximum Marks : 70
 
१. राउंड-रॉबिन टूर्नाेंट दो प्रकार का होता है । उनका नाम बताइए तथा उनके बीच एक प्रमुख अंतर दीजिए । १
Round-Robin Tournament is of two types. Name them and give one major difference between them.
 
२. नेतृत्व को परिभाषित कीजिए । १
Define leadership.
 
३. खाद्य असहिष्णुता से आपका क्या तात्पर्य है ? १
What do you mean by food intolerance ?
 
४. सामान्य आसन सम्बन्धी विकृतियाँ कौन-कौन सी होती हैं ? १
State the common postural deformities.
 
५. बच्चों में गामक विकास की अवस्थाओं के नाम बताइए । १
Name the motor development stages in children.

 

Click Here to Download 

Courtesy: CBSE

CBSE Class-12 Exam 2017 : All India Scheme Question Paper, Urdu (Core)

Posted: 10 Jul 2017 07:03 AM PDT

Class 12 papers

CBSE Class-12 Exam 2017 : All India Scheme

Question Paper Urdu ( Core)

CBSE Class-12 Exam 2017 :  Urdu (Core)

Click Here to Download 

Courtesy: CBSE

CBSE Class-10 Exam 2017 : Delhi Scheme Question Paper, Social Science-Urdu

Posted: 10 Jul 2017 06:36 AM PDT

CBSE Class-10 Exam 2017 : Delhi Scheme

Question Paper, Social Science-Urdu

CBSE Class-10 Exam 2017 :  Social Science-Urdu (Set-1)

Click Here to Download 

CBSE Class-10 Exam 2017 :  Social Science -Urdu (Set-2)

Click Here to Download 

CBSE Class-10 Exam 2017 :  Social Science Urdu-(Set-3)

Click Here to Download 

Courtesy: CBSE

CBSE Class-10 Exam 2017 : Delhi Scheme Question Paper, Social Science

Posted: 10 Jul 2017 06:01 AM PDT

CBSE Class-10 Exam 2017 : Delhi Scheme

Question Paper, Social Science

CBSE Class-10 Exam 2017 :  Social Science (Set-1)

  • कृपया जाँच कर लें कि इस प्रश्न-पत्र में मुद्रित पृष्ठ ११ + २ मानचित्र हैंŸ।
  • प्रश्न-पत्र में दाहिने हाथ की ओर दिए गए कोड नम्बर को छात्र उत्तर-पुस्तिका के मुख-पृष्ठ पर लिखें।
  • कृपया जाँच कर लें कि इस प्रश्न-पत्र में ३० प्रश्न हैं।
  • कृपया प्रश्न का उत्तर लिखना शुरू करने से पहले, प्रश्न का क्रमांक अवश्य लिखें।
  • इस प्रश्न-पत्र को प‹ढने के लिए १५ मिनट का समय दिया गया है। प्रश्न-पत्र का वितरण पूर्वाङ्घ में १०.१५ बजे किया जाएगा। १०.१५ बजे से १०.३० बजे तक छात्र केवल प्रश्न-पत्र को प‹ढेंगे और इस अवधि के दौरान वे उत्तर-पुस्तिका पर कोई उत्तर नहीं लिखेंगे।
  • Please check that this question paper contains 11 printed pages + 2 maps.
  • Code number given on the right hand side of the question paper should be written on the title page of the answer-book by the candidate.
  • Please check that this question paper contains 30 questions.
  • Please write down the Serial Number of the question before attempting it.
  • 15 minute time has been allotted to read this question paper. The question paper will be distributed at 10.15 a.m. From 10.15 a.m. to 10.30 a.m., the students will read the question paper only and will not write any answer on the answer-book during this period.
संकलित परीक्षा - II
SUMMATIVE ASSESSMENT - II
सामाजिक विज्ञान
SOCIAL SCIENCE
१. ‘आनंदमठङ्क उपन्यास के लेखक का नाम लिखिए। १
Name the writer of the novel ‘Anandamath.’
 
२. उस नदी का नाम लिखिए, जिसका संबंध ‘राष्ट्रीय नौगम्य जलमार्गङ्क संख्या-१ से है। १
Name the river which is related to ‘National Waterways’ No. 1.
 
३. ‘दबाव-समूहोंङ्क का निर्माण कैसे होता है? १
How do ‘pressure groups’ form ?
 
४. ‘चुनौती का अर्थ स्पष्ट कीजिए। १
Explain the meaning of ‘challenge.’
 
५. भारत के किसी एक ‘दबाव-समूहङ्क का उदाहरण दीजिए जो ‘राजनीतिक दलङ्क की एक शाखा के रूप में कार्य करता हैŸ। १
Give an example of any ‘pressure group’ of India which functions as a branch of ‘political party.’
 
६. आवश्यकताओं के दोहरे संयोग में छुपी समस्या को उजागर कीजिए। १
Highlight the inherent problem in double coincidence of wants.
 
७. उपभोक्ता के ‘चुनने के अधिकारङ्क का कोई एक उदाहरण दीजिए। १
Give any one example of consumer’s ‘right to choose.’

 

Click Here to Download 

CBSE Class-10 Exam 2017 :  Social Science (Set-2)

  • कृपया जाँच कर लें कि इस प्रश्न-पत्र में मुद्रित पृष्ठ ११ + २ मानचित्र हैंŸ।
  • प्रश्न-पत्र में दाहिने हाथ की ओर दिए गए कोड नम्बर को छात्र उत्तर-पुस्तिका के मुख-पृष्ठ पर लिखें।
  • कृपया जाँच कर लें कि इस प्रश्न-पत्र में ३० प्रश्न हैं।
  • कृपया प्रश्न का उत्तर लिखना शुरू करने से पहले, प्रश्न का क्रमांक अवश्य लिखें।
  • इस प्रश्न-पत्र को प‹ढने के लिए १५ मिनट का समय दिया गया है। प्रश्न-पत्र का वितरण पूर्वाङ्घ में १०.१५ बजे किया जाएगा। १०.१५ बजे से १०.३० बजे तक छात्र केवल प्रश्न-पत्र को प‹ढेंगे और इस अवधि के दौरान वे उत्तर-पुस्तिका पर कोई उत्तर नहीं लिखेंगे।
  • Please check that this question paper contains 11 printed pages + 2 maps.
  • Code number given on the right hand side of the question paper should be written on the title page of the answer-book by the candidate.
  • Please check that this question paper contains 30 questions.
  • Please write down the Serial Number of the question before attempting it.
  • 15 minute time has been allotted to read this question paper. The question paper will be distributed at 10.15 a.m. From 10.15 a.m. to 10.30 a.m., the students will read the question paper only and will not write any answer on the answer-book during this period.
संकलित परीक्षा - II
SUMMATIVE ASSESSMENT - II
सामाजिक विज्ञान
SOCIAL SCIENCE
१. १९३० में दलितों को ‘दमित वर्ग एसोसिएशनङ्क में किसने संगठित किया था ? १
Who organised Dalits into the ‘Depressed Classes Association’ in 1930 ?
 
२. ‘उत्तर-दक्षिण गलियारेङ्क के दक्षिणी छोर के स्थान का नाम लिखिए। १
Name the southern terminal station of the ‘North-South Corridor.’
 
३. यदि आप किसी सरकारी विभाग के कार्य-कलापों की सूचना प्राप्त करना चाहते हैं, तब आप किस अधिकार का प्रयोग करेंगे? १
If you want to extract information about the functions of any government department, which right would you exercise ?
 
४. ‘राजनीतिक दलङ्क का अर्थ स्पष्ट कीजिए। १
Explain the meaning of ‘political party.’
 
५. उपभोक्ता के ‘चुनने के अधिकारङ्क का कोई एक उदाहरण दीजिए। १
Give any one example of consumer’s ‘right to choose.’
 
६. ‘दबाव-समूहोंङ्क का निर्माण कैसे होता है? १
How do ‘pressure groups’ form ?
 
७. भारत के किसी एक ‘दबाव-समूहङ्क का उदाहरण दीजिए जो ‘राजनीतिक दलङ्क की एक शाखा के रूप में कार्य करता है। १
Give an example of any ‘pressure group’ of India which functions as a branch of ‘political party.’

 

Click Here to Download 

CBSE Class-10 Exam 2017 : Social Science (Set-3)

  • कृपया जाँच कर लें कि इस प्रश्न-पत्र में मुद्रित पृष्ठ ११ + २ मानचित्र हैंŸ।
  • प्रश्न-पत्र में दाहिने हाथ की ओर दिए गए कोड नम्बर को छात्र उत्तर-पुस्तिका के मुख-पृष्ठ पर लिखें।
  • कृपया जाँच कर लें कि इस प्रश्न-पत्र में ३० प्रश्न हैं।
  • कृपया प्रश्न का उत्तर लिखना शुरू करने से पहले, प्रश्न का क्रमांक अवश्य लिखें।
  • इस प्रश्न-पत्र को प‹ढने के लिए १५ मिनट का समय दिया गया है। प्रश्न-पत्र का वितरण पूर्वाङ्घ में १०.१५ बजे किया जाएगा। १०.१५ बजे से १०.३० बजे तक छात्र केवल प्रश्न-पत्र को प‹ढेंगे और इस अवधि के दौरान वे उत्तर-पुस्तिका पर कोई उत्तर नहीं लिखेंगे।
  • Please check that this question paper contains 11 printed pages + 2 maps.
  • Code number given on the right hand side of the question paper should be written on the title page of the answer-book by the candidate.
  • Please check that this question paper contains 30 questions.
  • Please write down the Serial Number of the question before attempting it.
  • 15 minute time has been allotted to read this question paper. The question paper will be distributed at 10.15 a.m. From 10.15 a.m. to 10.30 a.m., the students will read the question paper only and will not write any answer on the answer-book during this period.
संकलित परीक्षा - II
SUMMATIVE ASSESSMENT - II
सामाजिक विज्ञान
SOCIAL SCIENCE
१. १९३२ में किस समझौते के अन्तर्गत भारतीय ‘दमित वर्गङ्क को प्रांतीय और केंद्रीय विधायी परिषदों में आरक्षित सीटें मिलीं? १
Under which agreement the Indian ‘Depressed Classes’ got reserved seats in the Provincial and Central Legislative Councils in 1932 ?
 
२. ‘पूर्व-पश्चिमी गलियारेङ्क के पश्चिमी छोर के स्थान का नाम लिखिए। १
Name the western terminal station of ‘East-West Corridor.’
 
३. उपभोक्ता के ‘चुनने के अधिकारङ्क का कोई एक उदाहरण दीजिए। १
Give any one example of consumer’s ‘right to choose.’
 
४. ‘बोलिविया जल युद्धङ्क का मुख्य कारण स्पष्ट कीजिए। १
Explain the main reason for ‘Bolivia Water War.’
 
५. यदि आप किसी सरकारी विभाग के कार्य-कलापों की सूचना प्राप्त करना चाहते हैं, तब आप किस अधिकार का प्रयोग करेंगेŸ? १
If you want to extract information about the functions of any government department, which right would you exercise ?

 

Click Here to Download 

Courtesy: CBSE

CBSE Class-12 Exam 2017 : Marking Scheme, Computer Science

Posted: 10 Jul 2017 05:31 AM PDT

 
Class 12 papers

CBSE Class-12 Exam 2017 : Marking Scheme

Question Paper, Computer Science

CBSE Class-12 Exam 2017 :  Computer Science (Delhi )

CBSE AISSCE 2016-2017 Marking Scheme for Computer Science
(Sub Code: 083 Paper Code 91/1 Delhi)
General Instructions:
 
● The answers given in the marking scheme are SUGGESTIVE. Examiners are requested to award marks for all alternative correct Solutions/Answers
conveying the similar meaning
● All programming questions have to be answered with respect to C++ Language / Python only
● In C++ / Python, ignore case sensitivity for identifiers (Variable / Functions / Structures / Class Names)
● In Python indentation is mandatory, however, number of spaces used for indenting may vary
● In SQL related questions – both ways of text/character entries should be acceptable for Example: “AMAR” and ‘amar’ both are acceptable.
● In SQL related questions – all date entries should be acceptable for Example: ‘YYYY-MM-DD’, ‘YY-MM-DD’, ‘DD-Mon-YY’, “DD/MM/YY”, ‘DD/MM/YY’,
“MM/DD/YY”, ‘MM/DD/YY’ and {MM/DD/YY} are correct.
● In SQL related questions – semicolon should be ignored for terminating the SQL statements
● In SQL related questions, ignore case sensitivity.
 
 

Click Here to Download

CBSE Class-12 Exam 2017 :  Computer Science (Outside) 

CBSE AISSCE 2016-2017 Marking Scheme for Computer Science

(Sub Code: 083 Paper Code 91 Outside Delhi)

General Instructions:

●   The answers given in the marking scheme are SUGGESTIVE. Examiners are requested  to  award marks for all alternative correct Solutions/Answers conveying the similar meaning

●   All  programming  questions  have  to  be  answered  with  respect  to  C++ Language / Python only

●   In C++ / Python, ignore case sensitivity for identifiers (Variable / Functions / Structures / Class Names)

●   In Python indentation is mandatory, however, number of spaces used for indenting may vary

●   In SQL related questions – both ways of text/character entries should be acceptable for Example: “AMAR” and ‘amar’ both are acceptable.

●   In SQL related questions – all date entries should be acceptable for Example:

‘YYYY-MM-DD’,   ‘YY-MM-DD’,   ‘DD-Mon-YY’,  “DD/MM/YY”,  ‘DD/MM/YY’, “MM/DD/YY”, ‘MM/DD/YY’ and {MM/DD/YY} are correct.

●   In SQL related questions – semicolon should be ignored for terminating the SQL statements

●   In SQL related questions, ignore case sensitivity.

SECTION A - (Only for candidates, who opted for C++)

1

(a)

Write the type of C++ tokens (keywords and user defined identifiers) from the following:

(i) new (ii) While (iii) case (iv) Num_2

2

 

Ans

(i) new        - Keyword

(ii) While     - User defined Identifier

(iii) case      - Keyword

(iv) Num_2 - User defined Identifier

 

 

 

(½ Mark for writing each correct keywords)

(½ Mark for writing each correct user defined identifiers)

 

 

(b)

Anil typed the following C++ code and during compilation he found three errors as follows:

(i)  Function strlen should have prototype

(ii) Undefined symbol cout

(iii) Undefined symbol endl

On asking, his teacher told him to include necessary header files in the code. Write the names of the header files, which Anil needs to include, for successful compilation and execution of the following code

void main()

{

char Txt[]  =  "Welcome";

for(int     C=  0;  C<strlen(Txt);  C++) Txt[C] =  Txt[C]+1;

cout<<Txt<<endl;

}

1

Click Here to Download

Courtesy: CBSE

CBSE Class-10 Exam 2017 : Marking Scheme, Hindi (Course B)

Posted: 10 Jul 2017 05:08 AM PDT

CBSE Class-10 Exam 2017 : Marking Scheme

Question Paper, Hindi (Course B)

 

CBSE Class-10 Exam 2017 : Hindi (Course B) Delhi

सेैकेड़री स्कूल परीक्षा
मार्च - 2017
अंक-योजना  - हिंदी ;‘ब कोड संख्या 4/1/1, 2, 3
सामान्य निर्देश: मूल्यांकन करते समय वृफपया निम्नलिखित निर्देशों वेफ प्रति सावधनी बरतिए।
विशेष निर्देश:
माननीय सर्वोच्च न्यायालय वेफ आदेशानुसार परीक्षार्थी तय शुल्क देकर उत्तर-पुस्तिका की पफोटोकॉपी प्राप्त कर सकते हैं। परीक्षक यह सुनिश्चित करें कि उन्हें प्रत्येक प्रश्न की अंक
योजना वेफ अनुसार ही उत्तर का मूल्यांकन करना है।
1. बहुविकल्पी प्रश्नों वेफ उत्तर में यदि विद्यार्थी पूरे विकल्प ;वाक्य/वाक्यांश/शब्दद्ध को न लिखकर वेफवल ;कद्ध/;खद्ध इत्यादि उपयुक्त विकल्प ही लिखें तो उसे भी स्वीकारें ।
2. अंक योजना का उद्देश्य मूल्यांकन को अध्किाध्कि वस्तुनिष्ठ बनाना है। अंक-योजना में दिए गए उत्तर-बिंदु अंतिम नहीं हैं। ये सुझावात्मक एवं सांवेफतिक हैं। यदि परीक्षार्थी ने इनसे भिन्न, किंतु उपयुक्त उत्तर दिए हैं तो उसे उपयुक्त अंक दिए जाएँ।
3. परीक्षकों वेफ साथ जब तक प्रथम दिन वैयक्तिक अथवा सामूहिक रूप से अंक-योजना पर भली-भाँति विचार-विनिमय नहीं हो जाता तब तक मूल्यांकन आरंभ न कराया जाए।
4. मूल्यांकन-कार्य अपनी निजी व्याख्या वेफ अनुसार नहीं, बल्कि अंक-योजना में निर्दिष्ट निर्देशानुसार ही किया जाए।
5. प्रश्न वेफ उपभागों वेफ उत्तरों पर र्दाइं ओर अंक दिए जाएँ, बाद में उपभागों वेफ इन अंकों का योग र्बाइं ओर वेफ हाशिये में लिखकर उसे गोलावृफत कर दिया जाए।
6. यदि प्रश्न का कोई उपभाग नहीं है तो उस पर बाईं ओर ही अंक दिए जाएँ।
7. यदि परीक्षार्थी ने किसी प्रश्न का उत्तर दो स्थानों पर भी लिख दिया है तो जहाँ प्रश्न को पहले हल किया गया है उस पर अंक दें और बाद में किए हुए को काट दें।
8. संक्षिप्त किंतु उपयुक्त विवेचन वेफ साथ प्रस्तुत किया गया बिंदुवार उत्तर विस्तृत विवेचन की अपेक्षा अच्छा माना जाएगा। ऐसे उत्तरों को उचित महत्त्व देने की अपेक्षा है।
9. एक ही प्रकार की अशु(ि पर अंक न काटें।
10. शब्द-सीमा से अध्कि शब्द होने पर भी अंक न काटे जाएँ।
11. प्रायः यह प्रवृत्ति देखी जाती है कि परीक्षक सहानुभूति में 30: अंक प्राप्त करने वाले परीक्षार्थी को 33: अंक देकर उत्तीर्ण कर देते है, या कहीं एक अंक वेफवल इस आधर
पर काट लेते है कि पूरे अंक नहीं दिए जा सकते। यहाँ यह ध्यान रखना होगा कि मूल्यांकन में संपूर्ण अंक पैमाने - 0 से 90 का प्रयोग अभीष्ट है अर्थात् परीक्षार्थी ने यदि
सभी अपेक्षित उत्तर-बिंदुओं का उल्लेख किया है तो उसे पूरे 90 अंक दिए जाने चाहिए।
12. उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन करते समय यदि कोई उत्तर पूर्णतः गलत मिलता है तो उस उत्तर पर गलत ; चिह्नित कर शून्य अंक दिए जाएँ।
 

Click Here to Download 

CBSE Class-10 Exam 2017 : Hindi (Course B) Foreign

सेैकेड़री स्कूल परीक्षा
मार्च - 2017
अंक-योजना  - हिंदी ;‘ब कोड संख्या 4/2/1, 2, 3
सामान्य निर्देश: मूल्यांकन करते समय वृफपया निम्नलिखित निर्देशों वेफ प्रति सावधनी बरतिए।
विशेष निर्देश:
माननीय सर्वोच्च न्यायालय वेफ आदेशानुसार परीक्षार्थी तय शुल्क देकर उत्तर-पुस्तिका की पफोटोकॉपी प्राप्त कर सकते हैं। परीक्षक यह सुनिश्चित करें कि उन्हें प्रत्येक प्रश्न की अंक
योजना वेफ अनुसार ही उत्तर का मूल्यांकन करना है। 
1. बहुविकल्पी प्रश्नों वेफ उत्तर में यदि विद्यार्थी पूरे विकल्प ;वाक्य/वाक्यांश/शब्दद्ध को न लिखकर वेफवल ;कद्ध/;खद्ध इत्यादि उपयुक्त विकल्प ही लिखें तो उसे भी स्वीकारें ।
2. अंक योजना का उद्देश्य मूल्यांकन को अध्किाध्कि वस्तुनिष्ठ बनाना है। अंक-योजना में दिए गए उत्तर-बिंदु अंतिम नहीं हैं। ये सुझावात्मक एवं सांवेफतिक हैं। यदि परीक्षार्थी ने इनसे भिन्न, किंतु उपयुक्त उत्तर दिए हैं तो उसे उपयुक्त अंक दिए जाएँ।
3. परीक्षकों वेफ साथ जब तक प्रथम दिन वैयक्तिक अथवा सामूहिक रूप से अंक-योजना पर भली-भाँति विचार-विनिमय नहीं हो जाता तब तक मूल्यांकन आरंभ न कराया जाए।
4. मूल्यांकन-कार्य अपनी निजी व्याख्या वेफ अनुसार नहीं, बल्कि अंक-योजना में निर्दिष्ट निर्देशानुसार ही किया जाए।
5. प्रश्न वेफ उपभागों वेफ उत्तरों पर र्दाइं ओर अंक दिए जाएँ, बाद में उपभागों वेफ इन अंकों का योग र्बाइं ओर वेफ हाशिये में लिखकर उसे गोलावृफत कर दिया जाए।
6. यदि प्रश्न का कोई उपभाग नहीं है तो उस पर बाईं ओर ही अंक दिए जाएँ।
7. यदि परीक्षार्थी ने किसी प्रश्न का उत्तर दो स्थानों पर भी लिख दिया है तो जहाँ प्रश्न को पहले हल किया गया है उस पर अंक दें और बाद में किए हुए को काट दें।
8. संक्षिप्त किंतु उपयुक्त विवेचन वेफ साथ प्रस्तुत किया गया बिंदुवार उत्तर विस्तृत विवेचन की अपेक्षा अच्छा माना जाएगा। ऐसे उत्तरों को उचित महत्त्व देने की अपेक्षा है।
9. एक ही प्रकार की अशु(ि पर अंक न काटें।
10. शब्द-सीमा से अध्कि शब्द होने पर भी अंक न काटे जाएँ।
11. प्रायः यह प्रवृत्ति देखी जाती है कि परीक्षक सहानुभूति में 30: अंक प्राप्त करने वाले परीक्षार्थी को 33: अंक देकर उत्तीर्ण कर देते है, या कहीं एक अंक वेफवल इस आधर
पर काट लेते है कि पूरे अंक नहीं दिए जा सकते। यहाँ यह ध्यान रखना होगा कि मूल्यांकन में संपूर्ण अंक पैमाने - 0 से 90 का प्रयोग अभीष्ट है अर्थात् परीक्षार्थी ने यदि
सभी अपेक्षित उत्तर-बिंदुओं का उल्लेख किया है तो उसे पूरे 90 अंक दिए जाने चाहिए।
12. उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन करते समय यदि कोई उत्तर पूर्णतः गलत मिलता है तो उस उत्तर पर गलत ; चिह्नित कर शून्य अंक दिए जाएँ।

 

Click Here to Download

CBSE Class-10 Exam 2017 : Hindi (Course B) NSQF

सेैकेड़री स्कूल परीक्षा
मार्च - 2017
अंक-योजना  - हिंदी ;‘ब कोड संख्या 504/1, 2, 3
सामान्य निर्देश: मूल्यांकन करते समय वृफपया निम्नलिखित निर्देशों वेफ प्रति सावधनी बरतिए।
विशेष निर्देश:
माननीय सर्वोच्च न्यायालय वेफ आदेशानुसार परीक्षार्थी तय शुल्क देकर उत्तर-पुस्तिका की पफोटोकॉपी प्राप्त कर सकते हैं। परीक्षक यह सुनिश्चित करें कि उन्हें प्रत्येक प्रश्न की अंक
योजना वेफ अनुसार ही उत्तर का मूल्यांकन करना है। 
1. बहुविकल्पी प्रश्नों वेफ उत्तर में यदि विद्यार्थी पूरे विकल्प ;वाक्य/वाक्यांश/शब्दद्ध को न लिखकर वेफवल ;कद्ध/;खद्ध इत्यादि उपयुक्त विकल्प ही लिखें तो उसे भी स्वीकारें ।
2. अंक योजना का उद्देश्य मूल्यांकन को अध्किाध्कि वस्तुनिष्ठ बनाना है। अंक-योजना में दिए गए उत्तर-बिंदु अंतिम नहीं हैं। ये सुझावात्मक एवं सांवेफतिक हैं। यदि परीक्षार्थी ने इनसे भिन्न, किंतु उपयुक्त उत्तर दिए हैं तो उसे उपयुक्त अंक दिए जाएँ।
3. परीक्षकों वेफ साथ जब तक प्रथम दिन वैयक्तिक अथवा सामूहिक रूप से अंक-योजना पर भली-भाँति विचार-विनिमय नहीं हो जाता तब तक मूल्यांकन आरंभ न कराया जाए।
4. मूल्यांकन-कार्य अपनी निजी व्याख्या वेफ अनुसार नहीं, बल्कि अंक-योजना में निर्दिष्ट निर्देशानुसार ही किया जाए।
5. प्रश्न वेफ उपभागों वेफ उत्तरों पर र्दाइं ओर अंक दिए जाएँ, बाद में उपभागों वेफ इन अंकों का योग र्बाइं ओर वेफ हाशिये में लिखकर उसे गोलावृफत कर दिया जाए।
6. यदि प्रश्न का कोई उपभाग नहीं है तो उस पर बाईं ओर ही अंक दिए जाएँ।
7. यदि परीक्षार्थी ने किसी प्रश्न का उत्तर दो स्थानों पर भी लिख दिया है तो जहाँ प्रश्न को पहले हल किया गया है उस पर अंक दें और बाद में किए हुए को काट दें।
8. संक्षिप्त किंतु उपयुक्त विवेचन वेफ साथ प्रस्तुत किया गया बिंदुवार उत्तर विस्तृत विवेचन की अपेक्षा अच्छा माना जाएगा। ऐसे उत्तरों को उचित महत्त्व देने की अपेक्षा है।
9. एक ही प्रकार की अशु(ि पर अंक न काटें।
10. शब्द-सीमा से अध्कि शब्द होने पर भी अंक न काटे जाएँ।
11. प्रायः यह प्रवृत्ति देखी जाती है कि परीक्षक सहानुभूति में 30: अंक प्राप्त करने वाले परीक्षार्थी को 33: अंक देकर उत्तीर्ण कर देते है, या कहीं एक अंक वेफवल इस आधर
पर काट लेते है कि पूरे अंक नहीं दिए जा सकते। यहाँ यह ध्यान रखना होगा कि मूल्यांकन में संपूर्ण अंक पैमाने - 0 से 90 का प्रयोग अभीष्ट है अर्थात् परीक्षार्थी ने यदि
सभी अपेक्षित उत्तर-बिंदुओं का उल्लेख किया है तो उसे पूरे 90 अंक दिए जाने चाहिए।
12. उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन करते समय यदि कोई उत्तर पूर्णतः गलत मिलता है तो उस उत्तर पर गलत ; चिह्नित कर शून्य अंक दिए जाएँ।

 

Click Here to Download

Courtesy: CBSE

CBSE Class-10 Exam 2017 : Marking Scheme, Hindi (Course A)

Posted: 10 Jul 2017 04:51 AM PDT

CBSE Class-10 Exam 2017 : Marking Scheme

Question Paper, Hindi (Course A)

 

CBSE Class-10 Exam 2017 : Hindi (Course A) Delhi

सेैकेड़री स्कूल परीक्षा
मार्च - 2017
अंक-योजना  - हिंदी ;‘अ’ कोड संख्या 3/1/1, 2, 3
सामान्य निर्देश: मूल्यांकन करते समय वृफपया निम्नलिखित निर्देशों वेफ प्रति सावधनी बरतिए।
विशेष निर्देश:
माननीय सर्वोच्च न्यायालय वेफ आदेशानुसार परीक्षार्थी तय शुल्क देकर उत्तर-पुस्तिका की फोटोकॉपी प्राप्त कर सकते हैं। परीक्षक यह सुनिश्चित करें कि उन्हें प्रत्येक प्रश्न की अंक
योजना वेफ अनुसार ही उत्तर का मूल्यांकन करना है।
 
1. बहुविकल्पी प्रश्नों वेफ उत्तर में यदि विद्यार्थी पूरे विकल्प ;वाक्य/वाक्यांश/शब्दद्ध को न लिखकर वेफवल ;कद्ध/;खद्ध इत्यादि उपयुक्त विकल्प ही लिखें तो उसे भी स्वीकारें ।
2. अंक योजना का उद्देश्य मूल्यांकन को अध्किाध्कि वस्तुनिष्ठ बनाना है। अंक-योजना में दिए गए उत्तर-बिंदु अंतिम नहीं हैं। ये सुझावात्मक एवं सांवेफतिक हैं। यदि परीक्षार्थी ने इनसे भिन्न, किंतु उपयुक्त उत्तर दिए हैं तो उसे उपयुक्त अंक दिए जाएँ।
3. परीक्षकों वेफ साथ जब तक प्रथम दिन वैयक्तिक अथवा सामूहिक रूप से अंक-योजना पर भली-भाँति विचार-विनिमय नहीं हो जाता तब तक मूल्यांकन आरंभ न कराया जाए।
4. मूल्यांकन-कार्य अपनी निजी व्याख्या वेफ अनुसार नहीं, बल्कि अंक-योजना में निर्दिष्ट निर्देशानुसार ही किया जाए।
5. प्रश्न वेफ उपभागों वेफ उत्तरों पर र्दाइं ओर अंक दिए जाएँ, बाद में उपभागों वेफ इन अंकों का योग र्बाइं ओर वेफ हाशिये में लिखकर उसे गोलावृफत कर दिया जाए।
6. यदि प्रश्न का कोई उपभाग नहीं है तो उस पर बाईं ओर ही अंक दिए जाएँ।
7. यदि परीक्षार्थी ने किसी प्रश्न का उत्तर दो स्थानों पर भी लिख दिया है तो जहाँ प्रश्न को पहले हल किया गया है उस पर अंक दें और बाद में किए हुए को काट दें।
8. संक्षिप्त किंतु उपयुक्त विवेचन वेफ साथ प्रस्तुत किया गया बिंदुवार उत्तर विस्तृत विवेचन की अपेक्षा अच्छा माना जाएगा। ऐसे उत्तरों को उचित महत्त्व देने की अपेक्षा है।
9. एक ही प्रकार की अशु(ि पर अंक न काटें।
10. शब्द-सीमा से अध्कि शब्द होने पर भी अंक न काटे जाएँ।
11. प्रायः यह प्रवृत्ति देखी जाती है कि परीक्षक सहानुभूति में 30: अंक प्राप्त करने वाले परीक्षार्थी को 33: अंक देकर उत्तीर्ण कर देते है, या कहीं एक अंक वेफवल इस आधर
पर काट लेते है कि पूरे अंक नहीं दिए जा सकते। यहाँ यह ध्यान रखना होगा कि मूल्यांकन में संपूर्ण अंक पैमाने - 0 से 90 का प्रयोग अभीष्ट है अर्थात् परीक्षार्थी ने यदि
सभी अपेक्षित उत्तर-बिंदुओं का उल्लेख किया है तो उसे पूरे 90 अंक दिए जाने चाहिए।
12. उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन करते समय यदि कोई उत्तर पूर्णतः गलत मिलता है तो उस उत्तर पर गलत ;द्ध चिह्नित कर शून्य अंक दिए जाएँ।
 

Click Here to Download 

CBSE Class-10 Exam 2017 : Hindi (Course A) Foreign

सेैकेड़री स्कूल परीक्षा
मार्च - 2017
अंक-योजना  - हिंदी ;‘अ’ कोड संख्या 3/2/1, 2, 3
सामान्य निर्देश: मूल्यांकन करते समय वृफपया निम्नलिखित निर्देशों वेफ प्रति सावधनी बरतिए।
विशेष निर्देश:
माननीय सर्वोच्च न्यायालय वेफ आदेशानुसार परीक्षार्थी तय शुल्क देकर उत्तर-पुस्तिका की फोटोकॉपी प्राप्त कर सकते हैं। परीक्षक यह सुनिश्चित करें कि उन्हें प्रत्येक प्रश्न की अंक
योजना वेफ अनुसार ही उत्तर का मूल्यांकन करना है। 
 
1. बहुविकल्पी प्रश्नों वेफ उत्तर में यदि विद्यार्थी पूरे विकल्प ;वाक्य/वाक्यांश/शब्दद्ध को न लिखकर वेफवल ;कद्ध/;खद्ध इत्यादि उपयुक्त विकल्प ही लिखें तो उसे भी स्वीकारें ।
2. अंक योजना का उद्देश्य मूल्यांकन को अध्किाध्कि वस्तुनिष्ठ बनाना है। अंक-योजना में दिए गए उत्तर-बिंदु अंतिम नहीं हैं। ये सुझावात्मक एवं सांवेफतिक हैं। यदि परीक्षार्थी ने इनसे भिन्न, किंतु उपयुक्त उत्तर दिए हैं तो उसे उपयुक्त अंक दिए जाएँ।
3. परीक्षकों वेफ साथ जब तक प्रथम दिन वैयक्तिक अथवा सामूहिक रूप से अंक-योजना पर भली-भाँति विचार-विनिमय नहीं हो जाता तब तक मूल्यांकन आरंभ न कराया जाए।
4. मूल्यांकन-कार्य अपनी निजी व्याख्या वेफ अनुसार नहीं, बल्कि अंक-योजना में निर्दिष्ट निर्देशानुसार ही किया जाए।
5. प्रश्न वेफ उपभागों वेफ उत्तरों पर र्दाइं ओर अंक दिए जाएँ, बाद में उपभागों वेफ इन अंकों का योग र्बाइं ओर वेफ हाशिये में लिखकर उसे गोलावृफत कर दिया जाए।
6. यदि प्रश्न का कोई उपभाग नहीं है तो उस पर बाईं ओर ही अंक दिए जाएँ।
7. यदि परीक्षार्थी ने किसी प्रश्न का उत्तर दो स्थानों पर भी लिख दिया है तो जहाँ प्रश्न को पहले हल किया गया है उस पर अंक दें और बाद में किए हुए को काट दें।
8. संक्षिप्त किंतु उपयुक्त विवेचन वेफ साथ प्रस्तुत किया गया बिंदुवार उत्तर विस्तृत विवेचन की अपेक्षा अच्छा माना जाएगा। ऐसे उत्तरों को उचित महत्त्व देने की अपेक्षा है।
9. एक ही प्रकार की अशु(ि पर अंक न काटें।
10. शब्द-सीमा से अध्कि शब्द होने पर भी अंक न काटे जाएँ।

 

Click Here to Download

CBSE Class-10 Exam 2017 : Hindi (Course A) NSQF

सेैकेड़री स्कूल परीक्षा
मार्च - 2017
अंक-योजना  - हिंदी ;‘अ’ कोड संख्या 503/1, 2, 3
सामान्य निर्देश: मूल्यांकन करते समय वृफपया निम्नलिखित निर्देशों वेफ प्रति सावधनी बरतिए।
विशेष निर्देश:
माननीय सर्वोच्च न्यायालय वेफ आदेशानुसार परीक्षार्थी तय शुल्क देकर उत्तर-पुस्तिका की फोटोकॉपी प्राप्त कर सकते हैं। परीक्षक यह सुनिश्चित करें कि उन्हें प्रत्येक प्रश्न की अंक
योजना वेफ अनुसार ही उत्तर का मूल्यांकन करना है। 
 
1. बहुविकल्पी प्रश्नों वेफ उत्तर में यदि विद्यार्थी पूरे विकल्प ;वाक्य/वाक्यांश/शब्दद्ध को न लिखकर वेफवल ;कद्ध/;खद्ध इत्यादि उपयुक्त विकल्प ही लिखें तो उसे भी स्वीकारें ।
2. अंक योजना का उद्देश्य मूल्यांकन को अध्किाध्कि वस्तुनिष्ठ बनाना है। अंक-योजना में दिए गए उत्तर-बिंदु अंतिम नहीं हैं। ये सुझावात्मक एवं सांवेफतिक हैं। यदि परीक्षार्थी ने इनसे भिन्न, किंतु उपयुक्त उत्तर दिए हैं तो उसे उपयुक्त अंक दिए जाएँ।
3. परीक्षकों वेफ साथ जब तक प्रथम दिन वैयक्तिक अथवा सामूहिक रूप से अंक-योजना पर भली-भाँति विचार-विनिमय नहीं हो जाता तब तक मूल्यांकन आरंभ न कराया जाए।
4. मूल्यांकन-कार्य अपनी निजी व्याख्या वेफ अनुसार नहीं, बल्कि अंक-योजना में निर्दिष्ट निर्देशानुसार ही किया जाए।
5. प्रश्न वेफ उपभागों वेफ उत्तरों पर र्दाइं ओर अंक दिए जाएँ, बाद में उपभागों वेफ इन अंकों का योग र्बाइं ओर वेफ हाशिये में लिखकर उसे गोलावृफत कर दिया जाए।
6. यदि प्रश्न का कोई उपभाग नहीं है तो उस पर बाईं ओर ही अंक दिए जाएँ।
7. यदि परीक्षार्थी ने किसी प्रश्न का उत्तर दो स्थानों पर भी लिख दिया है तो जहाँ प्रश्न को पहले हल किया गया है उस पर अंक दें और बाद में किए हुए को काट दें।
8. संक्षिप्त किंतु उपयुक्त विवेचन वेफ साथ प्रस्तुत किया गया बिंदुवार उत्तर विस्तृत विवेचन की अपेक्षा अच्छा माना जाएगा। ऐसे उत्तरों को उचित महत्त्व देने की अपेक्षा है।
9. एक ही प्रकार की अशु(ि पर अंक न काटें।
10. शब्द-सीमा से अध्कि शब्द होने पर भी अंक न काटे जाएँ।

 

Click Here to Download

Courtesy: CBSE

​CBSE 2017-18 Syllabus Class-12 : Sociology

Posted: 10 Jul 2017 01:20 AM PDT

CBSE-CLASS-XII-LOGO

CBSE Class-12 Syllabus 2017-18

 

Subject: Sociology

Rationale
 
Sociology is introduced as an elective subject at the senior secondary stage. The syllabus is designed to help learners to reflect on what they hear and see in the course of everyday life and develop a constructive attitude towards society in change; to equip a learner with concepts and theoretical skills for the purpose. The curriculum of Sociology at this stage should enable the learner to understand dynamics of human behaviour in all its complexities and manifestations. The learners of today need answers and explanations to satisfy the questions that arise in their minds while trying to understand social world. Therefore, there is a need to develop an analytical approach towards the social structure so that they can meaningfully participate in the process of social change. There is scope in the syllabus not only for interactive learning, based on exercises and project work but also for teachers and students to jointly innovate new ways of learning.
  • Sociology studies society. The child’s familiarity with the society in which she /he lives in makes the study of Sociology a double edged experience. At one level Sociology studies institutions such as family and kinship, class, caste and tribe religion and region- contexts with which children are familiar of, even if differentially. For India is a society which is varied both horizontally and vertically. The effort in the books will be to grapple overtly with this both as a source of strength and as a site for interrogation.  Significantly the intellectual legacy of Sociology equips the discipline with a plural perspective that overtly engages with the need for defamiliarization, to unlearn and question the given. This interrogative and critical character of Sociology also makes it possible to understand both other cultures as well as relearn about one’s own culture.
  • This plural perspective makes for an inbuilt richness and openness that not too many other disciplines in practice share. From its very inception Sociology has had mutually enriching and contesting traditions of an interpretative method that openly takes into account ‘subjectivity’ and causal explanations that pay due importance to establishing causal correspondences with considerable sophistication. Not surprisingly its field work tradition also entails large scale survey methods as well as a rich ethnographic tradition. Indeed Indian sociology, in particular has bridged this distinction between what has often been seen as distinct approaches of Sociology and social anthropology. The syllabus provides ample opportunity to make the child familiar with the excitement of field work as well as its theoretical significance for the very discipline of Sociology.
  • The plural legacy of Sociology also enables a bird’s eye view and a worm’s eye view of the society the child lives in. This is particularly true today when the local is inextricably defined and shaped by macro global processes.
  • The syllabus proceeds with the assumption that gender as an organizing principle of society cannot be treated as an add on topic but is fundamental to the manner that all chapters shall be dealt with.
  • The chapters shall seek for a child centric approach that makes it possible to connect the lived reality of children with social structures and social processes that Sociology studies.
  • A conscious effort will be made to build into the chapters a scope for exploration of society that makes learning a process of discovery. A way towards this is to deal with sociological concepts not as givens but
  • a product of societal actions humanly constructed and therefore open to questioning.

Objectives

  • To enable learners to relate classroom teaching to their outside environment.
  • To introduce them to the basic concepts of Sociology that would enable them to observe and interpret social life.

CLICK HERE TO DOWNLOAD

Courtesy: CBSE

 

Post a Comment